top of page

आपके और अपने शहर बेवर की वेबसाइट।

बेवर की वेबसाइट का शुभारंभ !

हम हमारे क्षेत्र के युवा जनों का आवाहन करते हैं कि अपना रचनात्मक सहयोग प्रदान करें। आप सभी अपने शहर बेवर की विभिन्न खबरें हमारे contact section के जरिए मेल कर सकते हैं। शहर के व्यापारी बन्धु advertisement दे के आर्थिक सहयोग दे सकते हैं।

Home: Welcome
Home: Blog2

Subscribe Form

Stay up to date

Home: Subscribe

CONTACT

Bewar, Uttar Pradesh, India

9756628579

Thanks for submitting!

Home: Contact

प्रेम पचासा और वेबर

प्रेम पचासा और वेबर के बीच क्या संबंध है?

नहीं पता न... इस भक्ति काव्य के रचयिता मंयक कुमार सिंह 'सरल' वेबर के निवासी हैं।

उनके दादा जी हरिश्चन्द देव वर्मा 'चातक' जो साहित्य में चमकता नाम थे के पौत्र हैं।

वे बी.के.पी.जी. कालेज, करपिया, वेबर में कार्यरत हैं।

प्रेम पचासा कृष्ण की भक्ति काव्य होने के कारण जन प्रिय

रचना में सुमार है।

अन्य रचनायें:

आंखें (महाकाव्य), निगाहें (खण्ड काव्य), द्वितीया का रजनीपति (कविता संग्रह), मेरे बोल (मुक्तक संग्रह), मुहब्बत (प्रेक्टीकल थ्योरी), अर्पण (उपन्यास), अनुछेय मर्म (कहानी संग्रह)।

शीघ्र ही निबंध संग्रह: बस यूँ ही-खामोश अनुभव आने वाला है।

86 views1 comment

1 kommentar


Badia

Synes godt om
bottom of page